बाह्रखरी समीक्षा